List of Indian Festival in Hindi

जैसा कि आप सब जानते हैं कि हर देश का कोई ना कोई राष्ट्रीय त्यौहार होता है वैसे ही भारत के कुछ राष्ट्रीय त्योहार है। भारत एक त्योहारों का देश है जहां पर हर धर्म के लोग रहते हैं इसलिए यहां पर हर महीने त्यौहार आते हैं जिन्हें बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है भारत में सभी धर्मों के लोग अपना त्यौहार एक साथ मिलजुल कर मनाते हैं चाहे फिर वह त्यौहार हिंदुओं की दीपावली हो, या मुसलमानों की ईद, या सिखों की लोहड़ी हो, या ईसाइयों का क्रिसमस हो। त्यौहारों के कारण ही लोग उत्सव बना पाते हैं एवं प्रसन्नता का प्रसार कर पाते हैं।

 

लोहड़ी

लोहड़ी मकर सक्रांति से 1 दिन पहले पंजाब मे लोहड़ी का त्यौहार मनाया जाता है। मकर सक्रांति  के दिन तमिल हिंदू पोंगल का त्यौहार  मानते हैं। मकर सक्रांति को पूर्व संध्या को पंजाब हरियाणा व पड़ोसी राज्य में बड़ी धूम-धाम से लोहड़ी का त्यौहार मनाया जाता है पंजाबियों के लिए लोहड़ी का त्यौहार बहुत ही महत्व रखती है। लोहड़ी के दिन लोग अग्नि के चारों ओर चक्कर काटते हुए नाचते गाते हैं वह आग में रेवड़ी, मूंगफली खिल, मक्की के दानों की आहुति देते है। यह त्यौहार जनवरी या फरवरी के महीने में आता है।

 

मकर सक्रांति

कर संक्रांति का त्यौहार हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है। मकर सक्रांति का त्योहार सूर्य के उत्तरायण होने पर मनाया जाता है यह त्यौहार हर साल 14 जनवरी को ही मनाया जाता है। मकर सक्रांति का संबंध सीधा पृथ्वी के भूगोल और सूर्य की स्थिति से है जब भी सूर्य मकर रेखा पर आता है, वह दिन 14 जनवरी ही होता है इस दिन मकर सक्रांति का त्यौहार मनाया जाता है

 

गणतन्त्र दिवस

णतन्त्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है। जिसे प्रत्येक भारतवासी पूरे उत्साह, जोश और सम्मान के साथ मनाता है। एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और देश में कानून का राज स्थापित करने के लिए संविधान को 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा अपनाया गया और 26 जनवरी 1950 को इसे एक लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया था।

 

बसंत पंचमी

संत पंचमी एक हिंदुओं का त्योहार है। इस दिन विद्या की देवी  माँ सरस्वती की पूजा की जाती है। जोकि, ज्ञान, संगीत, और कला की देवी, सरस्वती माता का उत्सव है। यह पूरे भारत में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है यह हर साल माघ महीने के पांचवे दिन (पंचमी) को हिंदू कैलेंडर के अनुसार मनाया जाता है। और इस दिन पीले वस्त्र धारण करते हैं।

 

गुरु नानक जयंती

गुरु नानक जयंती का जन्म गांव तलवडी शेडखुपुरा, पंजाब में हुआ था। प्रत्येक वर्ष गुरु नानक जयंती कार्तिक पूर्णिमा के दिन श्रद्धा और उल्लास के साथ मनाई जाती है। इसे गुरु पूरब व गुरु पर्व के नाम से भी जाना जाता है जिसका अर्थ है “गुरूओ का उत्सव” गुरु नानक जी अपने कई महान कायों के लिए जाने जाते हैं। गुरु नानक जी निहित नैतिकता कड़ी, मेहनत, और सच्चाई का संदेश देते हैं यहा दिन महान आस्था और सामूहिक भावना और प्रयास के साथ पूरे विश्व में उत्साह के साथ मनाया जाता है। गुरु नानक जी की मृत्यु 22 सितंबर, 1539 को करतारपुर, मुगल साम्राज्य पाकिस्तान में हुई थी।

 

महाशिवरात्रि

हाशिवरात्रि हिंदुओं का एक का प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान शिव का प्रमुख पर्व है। यह त्योहार फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को मनाया जाता है माना जाता है। कि, सृष्टि का प्रारंभ इसी दिन से हुआ सृष्टि का आरंभ अग्निलिंग के उदय से हुआ। इसी दिन भगवान शंकर का विवाह देवी पार्वती के साथ हुआ था भारत में महाशिवरात्रि का त्यौहार बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाता है।

 

होली

रंगों का यह पवित्र त्यौहार होली भारत में सबसे ज्यादा उत्साह से मनाया जाने वाला बसंत ऋतु का त्योहार है । वसंत ऋतु में पडने वाली होली रंगों का त्योहार पूरे भारत में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है फाल्गुन मास की पूर्णिमा को “बुराई पर अच्छाई की जीत” को याद करते हुए होलिका दहन किया जाता है हिंदू पंचांग के अनुसार होली का पर्व चैत्र माह के पक्ष की प्रतिपदा को मनाया जाता है रंगों का यह त्योहार कहा जाने वाला यह त्यौहार पर्व पारंपरिक 2 दिन तक मनाया जाता है।

 

राम नवमी

राम नवमी एक प्रसिद्ध त्योहार है। यह शुक्ल पक्ष की चैत्र महीने के नौवें दिन नवमी पर मनाया जाता है भगवान राम का अर्थ है। स्वयं का प्रकाश स्वयं के भीतर ज्योति” यह त्यौहार भगवान विष्णु के अवतार मर्यादा पुरुषोत्तम राम का जन्मदिन के उपलक्ष में मनाया जाता है इस दिन को राम नवमी भी कहा जाता है।

 

वैशाखी

वैशाखी से पकी हुई फसल को काटने की शुरुआत हो जाती है। देशभर में 13 अप्रैल को बैसाखी का पर्व मनाया जाता है इस दिन लोग अनाज की पूजा करते है। और फसल को काटकर घर आ जाने की खुशी में भगवान और प्रकृति को धन्यवाद करते हैं 13 अप्रैल 1699 के दिन सिख पथ की स्थापना की थी इसके साथ ही इस दिन को मनाना शुरू किया गया था।

 

बुद्ध पूर्णिमा

वैशांख पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा भी कहते हैं। बुद्ध पूर्णिमा बौद्ध धर्म में आस्था रखने वालों का प्रमुख त्योहार है।यह गौतम बुद्ध की जयंती है, और उनका निर्वाण दिवस भी। यह वैशाख माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है और इस दिन गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था। इस दिन इनको ज्ञान की प्राप्ति हुई थी, और इसी दिन उनका महानिर्वाण भी हुआ था। हिंदू के लिए यह दिन पवित्र माना जाता है।

 

ईद

स्लाम में ईद का दिन बहुत ही खुशी का दिन माना जाता है। ईद के दिन अल्लाह से अपने गुनाहों की माफी मांगते हैं बल्कि, वह अपने लिए और अपने करीबी लोगों के लिए अल्लाह से दुआ भी करते हैं। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार ईद दो बार मनाई जाती है। ईद उल फितर और ईद उल अजहा। ईद उल फितर का दिन पवित्र बाद रमजान माह के बाद आता है। जब सभी लोग पूरे महीने का रमजान के रोजे रखने के बाद अल्लाह से दुआ करते हैं।

 

रक्षाबंधन

क्षाबंधन हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है। जो कि, पूरे भारत में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस त्यौहार को राखी का त्यौहार भी कहा जाता है यह त्योहार श्रावण महीने की पूर्णिमा को मनाया जाता है। रक्षाबंधन भाई-बहन के पवित्र प्रेम का प्रतीक है इस दिन सभी बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधती है। बहनें पूजा की थाली को कुमकुम, दिया, चावल, मिठाई और राखी से सजाती हैं। वह अपने भाइयों के माथे पर तिलक लगाती हैं। और उनकी कलाई पर राखी बांधती है ।वह भाइयों को मिठाई खिलाते हैं। और उनके लिए मंगल कामना करती हैं। भाई बहन को उपहार भेंट करते हैं। और उनकी रक्षा का प्रण लेते हैं। इस दिन घर-घर में स्वादिष्ट पकवान और मिठाईयां बनती है। लोग मित्र, परिवार और रिश्तेदारों में मिठाइयों का आदान-प्रदान करते हैंं।

 

जन्माष्टमी

न्माष्टमी एक हिंदू त्यौहार है। और इसे पूरे भारत में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। जन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण के रूप में मनाया जाता है। यह त्यौहार जुलाई या अगस्त के महीने में भगवान कृष्ण जी का जन्मदिन पर मनाया जाता है। श्री कृष्णा को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। भगवान श्री कृष्ण का जन्म मथुरा में हुआ था, और उनका जन्म मध्य रात्रि में हुआ था। श्री कृष्णा देवकी और वासुदेव के संतान सातवें पुत्र थे। भारत में जगह-जगह श्री कृष्ण की झांकियां सजाई जाती है। रामलीला का आयोजन भी किया जाता है। मथुरा और वृंदावन में भगवान कृष्ण ने अपना बचपन बिताया था, और वही जगह पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। पूरे भारत में जन्माष्टमी आने की खुशी पर दही हांडी का कार्यक्रम रखा जाता है। सभी जगह भजन और कीर्तन का आयोजन किया जाता है।

 

स्वतंत्र दिवस

मारा देश 15 अगस्त, 1947 को आजाद हुआ था और हर साल इस दिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। वही 26 जनवरी, 1950 को भारत में सविधान लागू किया गया था। यह दिन ब्रिटिशों के पंजों से आजादी प्राप्त करने के लिए हमारे स्वतंत्रता सेना ने और भारत के लोगों के बहादुर होने का प्रतीक है। और यह दिन ब्रिटिश शासन से भारत की आजादी को दर्शाता है। इसी दिन भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र बना इसलिए इस दिन को याद रखने के लिए प्रतिवर्ष हम 15 अगस्त को स्वतंत्र दिवस के रूप दिवस के रूप में मनाते हैं।

 

गणेश चतुर्थी

णेश चतुर्थी का पर्व भद्रपद् शुक्ला चतुर्थी के दिन मनाया जाता है शास्त्रों में ऐसी मान्यता हैं। गणेश जी का जन्म भाद्रपद शुक्ला पक्ष पक्ष के चतुर्थी तिथि को मध्याह्न स्वाति नक्षत्र और सिंह लग्न में हुआ था”। हिंदू धर्म में भगवान गणेश को प्रथम पूज्य देवता की उपाधि प्राप्त है। इसलिए किसी भी शुभ काम की शुरुआत इन्हें याद करके की जाती है। गणेश चतुर्थी हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है। गणेश हिंदू धर्म में सबसे प्रसिद्ध देवता है। यह त्योहार भारत के कई देशों में मनाया जाता है। और महाराष्ट्र में तो बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। भगवान गणेश जी की पूजा की जाती है। और इस दिन गणेश जी का जन्म हुआ था। इस त्यौहार को 9 दिन तक मनाया जाता है। और 9 दिन बाद बड़े धूमधाम से गणेश जी को तालाब जल में विसर्जित किया जाता है।

 

अनंत चतुर्दशी

भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को अनंत चतुर्दशी मनाई जाती है। इस दिन भगवान विष्णु के अनंत रूप में पूजा की जाती है भगवान विष्णु का दूसरा नाम अनंत देव है। इस दिन अनंत के रूप में हरि की पूजा होती है, पुरुष दाएं हाथ में तथा स्त्रियां बाए हाथ में अनंत धारण करती हैं अनंत चतुर्दशी को अनंत चौदस के नाम से भी जाना जाता है।

 

महात्मा गांधी जयंती

भारत में कुछ व्यक्ति ऐसे हुए हैं, जिन्हें भुलाया नहीं जा सकता है। और किसी अन्य व्यक्ति के साथ इनका तुलना कभी नहीं की जा सकती है। उनमे से एक थे। महात्मा गांधी जिन्हें हम राष्ट्र के पिता भी कहते हैं, वहां एक महापुरुष थे। जिन्होंने हमारे देश सच्चाई और इन सब के अपने तरीके से ब्रिटिश शासन से मुक्त करवाया। भारत में हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए उनके जन्मदिन पर 2 अक्टूबर को हर साल गांधी जयंती के रूप मनाया जाता है। मोहनदास करमचंद गांधी महात्मा गांधी का मूल नाम था, गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में एक हिंदू परिवार में हुआ था। गांधी जी के पिता का नाम करमचंद गांधी था। जोकि, राजनीतिक व्यक्ति भी थे। गांधी जी की माता का पुतलीबाई था। वह एक धार्मिक महिला थी।

 

छठ पूजा

ठ पूजा कार्तिक शुक्ल पक्ष मे मनाया जाने वाला त्यौहार वाला त्यौहार है। बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, नेपाल जैसे क्षेत्रों में भी मनाया जाता है। यह हर बिहारियों का सबसे बड़ा त्यौहार है बिहार में छठ पूजा बड़े धूमधाम से मनाया जाता है यह त्योहार मुख्य रूप से ऋषियों द्वारा लिखी गई है।

 

नवरात्रि

वरात्रि हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है। नवरात्रि शब्द एक संस्कृत शब्द है। जिसका अर्थ होता है। नौ रातें, यह नौ रातें और दस दिनों के दौरान शक्ति/देवी के नौ रूपों की पूजा भी की जाती है दसवा दिन दशहरा के नाम से प्रसिद्ध है। नवरात्रि त्योहार प्रतिवर्ष मुख्य रूप से दो बार आता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार पहला नवरात्रि चैत्र मास में मार्च या अप्रैल के महीने में आता है वा दूसरा नवरात्रि अश्विन मास में सितंबर या अक्टूबर के महीने में आता है। नवरात्रि के नौ राते में तीन देवियां मां लक्ष्मी, सरस्वती और महाकाली के नाम स्वरूपों की पूजा होती है।

 

तीज

तीज के दिन दिन सुहागन महिलाएं अपने पत्तियों की लंबी उम्र की आयु के लिए व्रत रखती हैं। यह त्यौहार भाद्रपद महीने की तृतीय तिथि को मनाया जाता है इस दिन महिलाएं पूरे दिन का व्रत रखती हैं। इस त्यौहार की शुरुआत  माता पार्वती ने भगवान शिव के लिए व्रत रखा था तब से यह परंपरा चली आ रही है। इस व्रत में भगवान शिव पार्वती के विवाह की कथा सुनी जाती है।

 

दशहरा

शहरा का पर्व हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। दशहरा का पर्व आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। यह पर्व “अच्छाई की बुराई पर जीत” का प्रतीक है। इसी दिन प्रुतोत्तम भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया था। वही इसी दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का वध किया था। इसलिए इसे विजयदशमी के रूप में भी मनाया जाता है।

 

धनतेरस

नतेरस, कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को भगवान धनवन्तरि का जन्म हुआ था। धनतेरस के अलावा इस त्योहार को धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी, धन के देवता कुबेर और यमलोक के राजा यमराज की पूजा की जाती है। पुराणों के अनुसार धनतेरस के दिन कुबेर और लक्ष्मी की साथ पूजा करने से आपके घर पर कृपा रहती है।

 

दीपावली

दीपावली हिंदू धर्म का सबसे महान पर्व माना जाता है। इसे हर भारतवासी प्रतिवर्ष हर्षोल्लास से बनाता है। दीपावली को “बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक” माना जाता है। यह रोशनी का त्योहार है। जिसे हर साल कार्तिक महीने की अमावस्या के दिन मनाया जाता है। एक मान्यता के अनुसार दिवाली तब मनाया जाता है। जब 14 वर्ष के वनवास के पश्चात भगवान राम सीता और लक्ष्मण अयोध्या लौटे थे, और अयोध्या के लोगों ने उनका स्वागत तेल के दीपक जलाकर किया था। इस दिन भगवान श्री राम जी ने लंका के राजा रावण का वध किया था। ताकि, पृथ्वी को बुरी गतिविधियों से बचाया जा सके।

 

गोवर्धन पूजा

दीपावली के अगले दिन यानी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाता है। लोग इस पर्व को अन्नकूट के नाम से जानते हैं । “इस त्यौहार का पौराणिक महत्व है इस पर्व में प्रकृति और मानव का सीधा संबंध है। स्थापित होता है। इस पर्व में गोवर्धन यानि गौ माता की पूजा की जाती हैं”। शास्त्रों में बताया गया है कि, गाय उतनी ही पवित्र है जितनी मां गंगा का निर्मल जल।

 

भाई दूज

भाई दूज भाई-बहन के प्रेम और कर्तव्य के संबंध को समर्पित है। यह त्यौहार बहन के प्रति भाइयों के दायित्व का बोध कराता है। बहने अपने प्रिय भाई को लंबी आयु और उसके जीवन की खुशियों के लिए प्रार्थना करती है। इसे भारत के विभिन्न स्थानों पर भाई तिलक के नाम से जाना जाता है। हिंदू समाज में भाई-बहन के स्नेह को सौहार्द्र का प्रतीक माना जाता है। यह पर्व दीपावली के 2 दिन बाद मनाया जाता है। हिंदुओं के बाकी त्योहारों की तरह यह त्योहार भी परंपराओं से जुड़ा हुआ है। इस दिन बहनें अपने भाई को तिलक लगाकर उपहार देकर उसकी लंबी आयु की कामना करती है, बदले में भाई अपनी बहन को रक्षा का वचन देता है, भाई दूज को यम दुतिया के नाम से भी जाना जाता है। इसलिए, इस पर्व पर यम देव की पूजा भी जाती है। एक मान्यता के अनुसार, इस दिन जो यमदेव को उपासना करता है। उसे असमय मृत्यु का भय नहीं रहता।

 

क्रिसमस

क्रिसमस ईसाइयों का मुख्य त्यौहार है। और इसाई धर्म के लोगों के लिए क्रिसमस का वही महत्व है जो कि, हिंदुओं के लिए दीपावली, और मुसलमानों के लिए ईद,। त्यौहार को बहुत ही धूमधाम और उल्लास के साथ मनाते हैं यह त्यौहार हर वर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है इसी दिन प्रभु ईसा मसीह, जीसस क्राइस्ट का जन्म हुआ था।

 

 

Leave a Comment